Image by Leo Chane

दुःख ही सुख है, सुख ही दुःख है!

लेखक: श्रेयश शर्मा

जो सुखी है, वही दुःखी है,

सुख में ही दुःख है, दुःख में ही सुख है,

सुख से ही दुःख है, दुःख से ही सुख है,

दुःख, सुख का पुरक है, सुख, दुख का पूरक है,

जहाँ दुःख है वहीं सुख है, जहाँ सुख है वहीं दुःख है,

इस दुःख से क्यों डरता है प्यारे,

दुःख के बाद ही सुख है, सुख के बाद ही दुःख है,

सुख-दुःख एक दूसरे से पृथक कहाँ,

सुख ही दुःख है, दुःख ही सुख है।


-श्रेयश

 

#hindikavita #kavi #kavitayen #hindipoem #hindipoetry #sahitya #hindisahitya #drishtikon #poemsofinstagram #poet #hindipoet #hindipoems #sukh #dukh #jeevan #life #hindilaguage #poemsinhindi #poemsonlife #beauty #love #life #lifeisbeautiful #happiness #sorrow #sadness #goodvibes

13 views0 comments

Recent Posts

See All