Image by Leo Chane

प्यार बेवजह!


प्यार का एहसास ही अलग है। फिर चाहे वो मुकम्मल हो जाए या फिर अधूरा रहे। ऐसा नहीं है कि हमें जीवन में बस एक बार ही किसी से प्यार होता है। हमें कई बार प्यार होता है। पहले प्यार की बात अलग होती है। उसके न मिल पाने के बाद हम टूट जाते हैं कभी-कभी बहुत ज्यादा टूट जाते हैं। कुछ भी अच्छा नहीं लगता, किसी काम में मन नहीं लगता। दुनिया बेगानी सी लगने लगती है।परिवार की बातें चुभने लगती हैं। जब दोस्तों के साथ मन बहलाने के लिए बाहर निकलो तो भी मन बस खोया-खोया सा रहता है। लाख जतन करने के बाद भी दुखी मन को तसल्ली नहीं मिलती।


प्यार अगर किसी वजह से हो तो समझ में भी आता है कि चलो वो वजह खत्म तो प्यार खत्म, लेकिन जब कोई वजह ही नहीं हो प्यार खत्म होने में बहुत टाइम लगता है। या फिर पहला प्यार कभी खत्म नहीं होता वो कहीं न कहीं हमारे दिल के किसी कोने में बेहोश पड़ा रहता है।


प्यार करने की सभी की अपनी-अपनी वजहें हो सकती हैं। जैसे कोई सिर्फ सेक्स के लिए प्यार करता है, कोई किसी को सिर्फ अपना बना लेने के लिए, शादी करने के लिए। उसके साथ जीवन भर रहने के लिए। उसकी खुशी के लिए। उसके दुख मिटाने के लिए। उसके लिए कुछ भी करने के लिए। बहुत सारी वजह हो सकती हैं।


हम बहुत सारी फिल्मों में भी देखते हैं कि प्यारी किस वजह से होता है। किसी को लड़की की सूरत अच्छी लगती है तो किसी को सीरत। कोई लड़की के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है तो कोई बस हालत के सामने घुटने टेक देता है।


मान के चलते हैं कि आप किसी से अभी प्यार करते हैं और उसके लिए कुछ भी करने को तैयार है, कुछ भी। लेकिन क्या पता कल को वो प्यार आपके साथ रहे या न रहे। आप अब ये मत समझ लेना कि आप दुनिया को उससे छीन लोगे, उसके लिए दुनिया में आग लगा दोगे अगर वो न मिली तो।


बस ये याद रखना कि श्रीकृष्ण भगवान थे, वे जिस राधा से प्यार करते थे उसे पा न सके। लेकिन उनका प्यार आज भी अमर है। क्यूंकि अगर पा लेना ही प्यार होता तो शायद उनका प्रेम इतना फेमस नहीं होता। वो भी आम इंसान की तरह विरह में रोए, तड़पे हैं और वियोग सहा है।


उनके प्रेम की वजह हो या न रही हो इस बात का तो कोई भी पता नहीं लगा सकता है, लेकिन एक बात समझ में आती है कि वे इस संसार को ऐसे प्रेम का संदेश देने आए थे जिससे इंसान ये समझ सकें कि श्रीकृष्ण का प्रेम राधा के लिए और मीरा का श्रीकृष्ण के लिए प्रेम अमर है। वो प्रेम का साकरा रूप है।


आखिर में यहीं कहूंगी कि अगर किसी से प्रेम हो तो बिना किसी वजह के हो। अगर वो प्यार तुम्हारे साथ कल हो न हो तो भी उसके लिए अच्छा सोचना और खुद से प्यार करते रहना लेकिन कभी स्वार्थी न हो जाना। प्यार की कोई वजह नहीं होगी तो किसी बात का मलाल नहीं रहेगा। केवल प्यार ही रहेगा।


-इक़रा असद

 

#love #loveoflife #firstlove #lifechangingfeeling #loveatfirstsight #ishq #mohabbat #pyarkadard #pyarbewajah #ishqwalalove #pyarkaehsas

57 views2 comments

Recent Posts

See All

Ode